birth of vritrasur

वृत्रासुर के जन्म की कथा

एक समय की बात है त्वष्ठा प्रजापति के पद पर नियुक्त थे ।  महान तपस्वी त्वष्ठा को देवताओं में प्रधान माना जाता था । वे बड़े ही कार्यकुशल और ब्राह्मण प्रेमी थे । इंद्रा के साथ कुछ वैमनास्थ होजाने के… Read More ›