भगवानके विराट स्वरूप का वर्णन

पूर्ण पुरुष भगवान श्रीकृष्ण सृष्टि के आदि मध्य और अंत है । भगवान  निर्गुण और सगुण भी है । यही भगवान सर्वव्यापी, अंतर्यामी और सर्वशक्तिमान है । जब राजा परीक्षित को श्रृंगी ऋषिने तक्षक नाग के द्वारा मृत्यु का श्राप दिया था, तब राजा परीक्षित ने अनशन व्रत धारण करके गंगा तटपर भगवान श्रीकृष्ण के लीलाओं का श्रवण किया था । व्यासनन्दन श्री शुखदेवजी ने राजा परीक्षित को भगवान की अमृतमई लीलाओं को सुनाया था । 

 राजा परीक्षितने श्री शुकदेवजी से पूछा था,  जिस मनुष्यके जीवन मे थोड़ा ही समय बचा हो उसे क्या करना चाहिये । परीक्षित के इस प्रश्न को सुनकर शुकदेव जी ने कहा था , परीक्षित मृत्युका समय आने पर मनुष्य घबराए नहीं । उसे चाहिए कि वैराग्यके शास्त्रसे शरीर और उससे संबंध रखनेवालोंके प्रति ममता को काट डाले ।

धैर्यके साथ घरसे निकलकर पवित्र तीर्थके जलमें स्नान करे और पवित्र तथा एकान्त स्थानमें विधिपूर्वक आसन लगाकर बैठ जाय । तत्पश्चात् परम पवित्र ‘अ उ मु’ इन तीन मात्राओंसे युक्त प्रणवका मन-ही-मन जप करे । प्राणवायुको वशमें करके मनका दमन करे और एक क्षणके लिये भी प्रणवको न भूले । बुद्धिकी सहायतासे मनके द्वारा इन्द्रियोंको उनके विषयोंसे हटा ले और कर्मकी वासनाओंसे चंचल हुए मनको विचारके द्वारा रोककर भगवान्के मंगलमय रूपमें लगाये ।

स्थिर चित्तसे भगवान्के श्रीविग्रहमेंसे किसी एक अंगका ध्यान करे । इस प्रकार एक-एक अंगका ध्यान करते-करते विषय वासना से रहित मनको पूर्णरूपसे भगवान्में ऐसा तल्लीन कर दे कि फिर और किसी विषयका चिन्तन हो नही । वही भगवान् विष्णुका परमपद है, जिसे प्राप्त करके मन भगवत्प्रेमरूप आनन्दसे भर जाता है । यदि भगवान्का ध्यान करते समय मन  रजोगुणसे विक्षिप्त या तमोगुणसे मूढ़ हो जाय तो घबराये नहीं । धैर्यके साथ योगधारणाके द्वारा उसे वशमें करना चाहिये ,क्योंकि धारणा उक्त दोनों गुणोंके दोषोंको मिटा देती है । धारणा स्थिर हो जानेपर ध्यानमें जब योगी अपने परम मंगलमय आश्रय (भगवान्)-को देखता है तब उसे तुरंत ही भक्तियोगकी प्राप्ति हो जाती है ।

परीक्षित्ने पूछा-ब्रह्मन् ! धारणा किस साधनसे किस वस्तुमें किस प्रकार की जाती है और उसका क्या स्वरूप माना गया है, जो शीघ्र ही मनुष्यके मनका मैल मिटा देती है? ।

श्रीशुकदेवजीने कहा-परीक्षित्! आसन, श्वास, आसक्ति और इन्द्रियोंपर विजय प्राप्त करके फिर बुद्धिके द्वारा मनको भगवान्के स्थूलरूपमें लगाना चाहिये । यह कार्यरूप सम्पूर्ण विश्व जो कुछ कभी था, है या होगा-सब-का-सब जिसमें दीख पड़ता है वही भगवान्का स्थूल-से-स्थूल और विराट् शरीर है ।

जल, अग्नि, वायु, आकाश, अहंकार, महत्तत्त्व और प्रकृति-इन सात आवरणोंसे घिरे हुए इस ब्रह्माण्डशरीरमें जो विराट् पुरुष भगवान् हैं, वे ही धारणाके आश्रय हैं, उन्हींकी धारणा की जाती है ।

तत्त्वज्ञ पुरुष उनका इस प्रकार वर्णन करते हैं-पाताल विराट् पुरुषके तलवे हैं, उनकी एड़ियाँ और पंजे रसातल हैं, दोनों गुल्फ-एड़ीके ऊपरकी गाँठे महातल हैं, उनके पैरके पिंडे तलातल हैं,।

विश्व-मूर्तिभगवान्के दोनों घुटने सुतल हैं, जाँघें वितल और अतल है, पेडू भूतल है और  परीक्षित् ! उनके नाभिरूप सरोवरको ही आकाश कहते हैं ।

आदिपुरुष परमात्माकी छातीको स्वर्गलोक ,गलेको महर्लोक, मुखको जनलोक और ललाटको तपोलोक कहते हैं। उन सहस्र सिरवाले भगवान्का मस्तकसमूह ही सत्यलोक है ।

इन्द्रादि देवता उनकी भुजाएँ हैं। दिशाएँ कान और शब्द श्रवणेन्द्रिय हैं। दोनों अश्विनीकुमार उनकी नासिकाके छिद्र हैं; गन्ध घ्राणेन्द्रिय है और धधकती हुई आग उनका मुख है ।

भगवान् विष्णुके नेत्र अन्तरिक्ष हैं, उनमें देखनेकी शक्ति सूर्य है, दोनों पलकें रात और दिन हैं, उनका भ्रूविलास ब्रह्मलोक है । तालु जल है और जिह्वा रस । वेदोंको भगवान्का ब्रह्मरन्ध्र कहते हैं और यमको दाढ़ें। सब प्रकारके स्नेह दाँत हैं और उनकी जगन्मोहिनी मायाको ही उनकी मुसकान कहते हैं । यह अनन्त सृष्टि उसी मायाका कटाक्ष-विक्षेप है ।

लज्जा ऊपरका होठ और लोभ नीचेका होठ है। धर्म स्तन और अधर्म पीठ है। प्रजापति उनके मूत्रेन्द्रिय हैं, मित्रावरुण अण्डकोश हैं, समुद्र कोख है और बड़े-बड़े पर्वत उनकी हड्डियाँ हैं ।

राजन् ! विश्वमूर्ति विराट् पुरुषकी नाड़ियाँ नदियाँ हैं। वृक्ष रोम हैं। परम प्रबल वायु श्वास है। काल उनकी चाल है और गुणोंका चक्कर चलाते रहना ही उनका कर्म है ।

परीक्षित् ,बादलोंको उनके केश मानते हैं। सन्ध्या उन अनन्तका वस्त्र है महात्माओंने अव्यक्त (मूलप्रकृति)-को ही उनका हृदय बतलाया और सब विकारोंका खजाना उनका मन चन्द्रमा कहा गया है ।

महत्तत्त्वको सर्वात्मा भगवान्का चित्त कहते हैं और रुद्र उनके अहंकार कहे गये हैं। घोड़े, खच्चर, ऊँट और हाथी उनके नख हैं। वनमें रहनेवाले सारे मृग और पशु उनके कटिप्रेदशमें स्थित हैं ।

तरह-तरहके पक्षी उनके अद्भुत रचना-कौशल है। स्वायम्भुव मनु उनकी बुद्धि हैं और मनुकी सन्तान मनुष्य उनके निवासस्थान हैं। गन्धर्व, विद्याधर, चारण और अप्सराएँ उनके षड्ज आदि स्वरोंकी स्मृति हैं। दैत्य उनके वीर्य हैं ।

ब्राह्मण मुख, क्षत्रिय भुजाएँ, वैश्य जंघाएँ और शूद्र उन विराट् पुरुषके चरण हैं। विविध देवताओंके नामसे जो बड़े-बड़े द्रव्यमय यज्ञ किये जाते हैं, उनके कर्म हैं ।

परीक्षित्! विराट्भगवान्के स्थूलशरीरका यही स्वरूप है, सो मैंने तुम्हें सुना दिया । इसीमें मुमुक्षु पुरुष बुद्धिके द्वारा मनको स्थिर करते हैं; क्योंकि इससे भिन्न और कोई वस्तु नहीं है ।

जैसे स्वप्न देखनेवाला स्वप्नावस्थामें अपने आपको ही विविध पदार्थोंके रूपमें देखता है, वैसे ही सबकी बुद्धि-वृत्तियोंके द्वारा सब कुछ अनुभव करनेवाला सर्वान्तर्यामी परमात्मा भी एक ही है । उन सत्यस्वरूप आनन्दनिधि भगवान्का ही भजन  करना चाहिये, अन्य किसी भी वस्तुमें आसक्ति नहीं करनी चाहिए । क्योंकि यह आसक्ति जीवके  अध:पतनका हेतु है ।

इस तरह से व्यासनन्दन शुकदेव ने राजा परीक्षित को भगवान के विराट स्वरूप का वर्णन किया था ।

 



Categories: भागवत पुराण

Tags: ,

Leave a Reply

%d bloggers like this: