दुर्गा देवी की कथाएँ

पढ़िए भगवती दुर्गा देवी की अद्भुत कथाएं और बढ़ाये माँ के प्रति अपनी भक्ति

भगवती जगदंबा की कृपा से राजा सत्यव्रत को शाप से मुक्ति और राज्य प्राप्ति की कथा

राजा मान्धाता की उत्पत्ति पिता के कोख से हुई थी । स्वयं देवराज इंद्र ने जन्म के बाद इनकी रक्षा की थी । राजा मांधाता के वंश में अरुण नाम के एक राजा हुए , राजा अरुण के पुत्र का… Read More ›

देवी भक्त राजा पुरंजय की कथा जिसने दैत्यों के साथ युद्ध में देवराज इंद्र को अपना वाहन बनाया था

पूर्व समय की बात है इक्ष्वाकु अयोध्या के राजा थे । राजा इक्ष्वाकु को सूर्यवंश का प्रवर्तक माना जाता है । वंश की वृद्धि के लिए राजा इक्ष्वाकु ने भगवती जगदंबा की बहुत ही कठिन तपस्या की थी । देवर्षि… Read More ›

अश्विनी कुमारों की सहायता से चवन ऋषि का युवा होना और भगवती जगदंबा की कृपा से सुकन्या का अपने युवा पति को पहचानना

 च्यवन ऋषि भगवती जगदंबा के परम भक्त थे । वे सदा अपना समय जगदंबा का ध्यान करने में व्यतीत करते थे । एक सरोवर के निकट जो मानसरोवर की तुलना करने वाला था महर्षि तपस्या कर रहे थे । उनके… Read More ›

जानिए कैसे भगवान विष्णु की माया के प्रभाव से नारद मुनि स्त्री बन गए थे

एक समय की बात है, नारद मुनि के मन में भगवान विष्णु के दर्शन करने की इच्छा हुई । तब स्वर्ग से वैकुंठ के लिए चल दिये , नारद मुनि को वहां पर भगवान विष्णु के दर्शन हुए ।  विष्णु… Read More ›

भगवती जगदंबा की कृपा से लक्ष्मीपुत्र एकवीर और राजकुमारी एकावली के विवाह की कथा

पूर्वकाल में हरीवर्मा नाम के एक राजा रहते थे । हरिवर्मा ने  भगवान विष्णु के जैसे पुत्र प्राप्ति के लिए 100 वर्षों तक घोर तपस्या की थी । तब भगवान विष्णु  और देवी लक्ष्मीने अश्व का रूप धारण करके एक… Read More ›

देवी जगदंबा के अंश से उत्पन्न बालकद्वारा भृगुवंशी ब्राह्मणों की रक्षा की कथा

भृगुवंशी ब्राह्मण क्षत्रियों के यजमान थे । हैहयवंश में कार्तवीर्य  नाम के एक महान राजा हुए । भगवान दत्तात्रेय द्वारा कार्तवीर्य ने देवी जगदंबा के मंत्र की दीक्षा ली थी ।  भगवती जगदंबा राजा कार्तवीर्य की इष्टदेव थी । राजा… Read More ›

वशिष्ट जी का राजा निमि को शाप और भगवती जगदम्बा द्वारा राजा को वरदान

 बहुत पहले की बात है निमि नाम के एक राजा रहते थे , जो बड़े ही धर्मात्मा थे । निमि ने एक समय,  राजसि यज्ञ करने का संकल्प लिया । आवश्यक समस्त वस्तुओं का उन्होंने संग्रह कर लिया , यज्ञ… Read More ›

भगवती जगदंबा की कृपा से शचि को अपने पति इंद्र के दर्शन की कथा

बहुत पहले की बात है वृत्रासुर नाम के  दैत्य ने देवराज इंद्र से  स्वर्ग छीन लिया था ।  देवताओं के  स्वर्ग से  बाहर निकाल कर दिया था । भगवान विष्णु के कहने पर देवताओं ने वृत्रासुर से इंद्र की मित्रता… Read More ›

देवी भुवनेश्वरी की कृपा से इंद्र द्वारा वृत्रासुर के वध की कथा

वृत्रासुर नाम का एक दैत्य था , जिसे प्रजापति त्वष्ठा ने ,इंद्रा से आपने पुत्र त्रिशिरा की मृत्यु का बदला लेने के लिए उत्पन्न किया था । वृत्रासुर ने बृह्मा की तपस्या की और उनसे वरदान पाकर वह अति बलशाली… Read More ›

देवी भुवनेश्वरी की कृपा से वेदव्यास द्वारा पांडवों को दिवंगत परिजनों को दिखाने की कहानी

कुरुक्षेत्र के यद्ध के बाद युधिष्टिर हस्तिनापुर के राजा बन गए । धृतराष्ट्रने अठारह वर्षोतक वहीं रहकर अपना कष्टमय जीवन व्यतीत किया । एक दिन धृतराष्ट्र ने अपना शेष जिवन वन में बिताने का निर्णय लिया और अपने इस निर्णय… Read More ›