Stories from Hindu Scriptures

भगवती जगदम्बा के सिद्धपीठों के नाम

पूर्व समय की बात है दक्षप्रजापति ने भगवती जगदम्बा की आराधना करके उनको अपनि पुत्री के रूप में पाया था । दक्षने देवीके इस अवतार का नाम सती रख दिया, आगे चलकर दक्षने अपनी पुत्री सती का विवाह भगवान शिव से कर दिया । परंतु पूर्व समय के पाप कर्म के कारण दक्ष प्रजापति के… Read More ›

जानिए क्यों दक्षके मन में उत्पन्न हुआ था शिव और सती के प्रति द्वेष

पूर्व समय की बात है सृष्टि में हलाहल नाम के देत्य उत्पन्न हुए थे । ब्रह्माजी के वरदान से यह दैत्य बहुत ही अभिमानी हो गए थे । समस्त त्रिलोकी को जीतकर इन दैत्यों ने विष्णु लोक और शिव लोके को जीतने के अभिप्राय से इन दोनों लोकों को घेर लिया था । दैत्यों को… Read More ›

भगवानके विराट स्वरूप का वर्णन

पूर्ण पुरुष भगवान श्रीकृष्ण सृष्टि के आदि मध्य और अंत है । भगवान  निर्गुण और सगुण भी है । यही भगवान सर्वव्यापी, अंतर्यामी और सर्वशक्तिमान है । जब राजा परीक्षित को श्रृंगी ऋषिने तक्षक नाग के द्वारा मृत्यु का श्राप दिया था, तब राजा परीक्षित ने अनशन व्रत धारण करके गंगा तटपर भगवान श्रीकृष्ण के लीलाओं… Read More ›

जानिए क्यों चली गई थी लक्ष्मी और गौरी भगवान विष्णु और शिव को छोड़ के

आदिशक्ति भगवती जगदम्बा ने इस समस्त संसार की रचना की है । इन भगवती को ही सर्वेश्वरी , सर्वशक्तिस्वरूप, सर्वस्थिता और सर्वज्ञा कहा गया है । जब इन देवी को सृष्टि करने की इच्छा होती है तब यह देवी स्वयं ही तीन रूपों में विभाजित होजाती है जो कि ब्रह्मा , विष्णु और शिव कहलाते… Read More ›

Loading…

Something went wrong. Please refresh the page and/or try again.

%d bloggers like this: